इलेक्ट्रॉनिक्स और हार्डवेयर उद्योग में विकास के रुझान और वैश्विक इलेक्ट्रॉनिक्स उद्योग में उसका मौजूदा योगदान दर्शाता है कि भारत में आईटी हार्डवेयर और इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण उद्योग का उत्पादन और रोज़गार के मामले में हिस्सा कई गुना बढ़ने की क्षमता है। भारत सरकार ने देश में उच्च तकनीक पर आधारित इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों के विनिर्माण के लिए पर्याप्त बुनियादी सुविधाओं और आधारिक संरचनाओं की जरुरतों को पूरा करने के लिए कई कदमों की घोषणा की है। इस संदर्भ में, इस सेक्टर के विकास को बनाए रखने और निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने हेतु क्षेत्र संबंधित प्रशिक्षित मानव संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित करने की भी जरुरत है।

इस संबंध में, भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी (DietY/ डीआइईटीवाय) विभाग ने ‘केपेसिटी बिल्डिंग इन द एरियाज़ ऑफ़ इलेक्ट्रॉनिक्स प्रॉडक्ट डिजाइन एंड प्रोडक्शन टेक्नॉलॉजी’ ('इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पाद डिजाइन और उत्पादन प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों में क्षमता निर्माण') के नाम से एक परियोजना आरम्भ की है जिसे मानव संसाधन विकास, सस्ते इलेक्ट्रॉनिक्स डिज़ाइन, अनुसंधान और विकास आदि के लिए NIELIT औरंगाबाद, NIELIT चेन्नई और सी-डैक हैदराबाद द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है।

इस परियोजना एक भाग के रूप में, संयुक्त रूप से इन तीन केन्द्रों द्वारा इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद डिजाइन [DEPD] के लिए छह महीने का पीजी डिप्लोमा कोर्स शुरू किया है जो उद्योग के विकास में योगदान करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स और संबंधित क्षेत्रों में प्रशिक्षित मानव शक्ति तैयार करेगा। DEPD कोर्स का लक्ष्य इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद डिजाइन अर्थात अवधारणा से उत्पाद विकास तक के बारे में छात्रों को जागरूक करना है।